Monday, September 6, 2010

आप बीती ....

प्रिय पाठको ,
मै , रेलवे में लोको चालक हूँ ,दिनांक पहली सितम्बर को ,मे २1६४ एक्सप्रेस को कामकरते हुए ,गुंतकल से वादी जन को जा रहा था। मेरी गाड़ी  नारायणपेट रोड रुकी और समयसे फिर प्रस्थान हुई। मैंने देखा की एक बैल्गारी ,रेलवे लाइन को स्पर्स करते हुए ,खरी है. मैंने तुरंत, गाड़ी की ब्रेक लगाई। किन्तु अप्रयाप्ता,सुरक्षित दुरी के अभाव में,गाड़ी,तुरंत नरुक सकी । गाड़ी, बैलगाड़ी से जा टकराई। बैलगाड़ी को काफी नुकसान पंहुचा , भगवानकी कृपा थी, जो बैलगाड़ी में न बैल था,नहीं गाड़ीवान ,आन्यथा दोनों मर जाते थे।
                             मेरी गाड़ी तो रुक गई , हमने अची तरह से गाड़ी का मुआयना किया, औरफिर गाड़ी को स्टार्ट किये, मै भगवान का सुकर गुजर हु जो ,कोई सेरिऔस दुरघटना होने सेबच्ये उपरोक्त उदहारण के माध्यम से मै यह, बताना चाहता हूँ ,की हम जैसे लोकोचालाको केजीवन में आएसी घटनाये ,हो जाती है और सभी लोको चालको का यह प्रयास रहता है की ,जहातक हो सके,जानमाल की हिफाजत की जाये, पब्लिक को भी चाहिए की भारतीय रेल को ,सुरक्षितरखे , नुकसान न पहुंचाए  । रेलवे आप को सुरक्षा देने  के लिए  हमेशा तैयार  है.

9 comments:

  1. अच्छी लगी आपकी आपबीती। इसके पहले के भी लेख देखे। बहुत अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  2. आप बीती अच्छी लगी धन्यवाद|

    ReplyDelete
  3. आप का काम बहुत जहीन है। ब्लाग जगत में आप का स्वागत है।

    ReplyDelete
  4. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
    ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
    हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    मालीगांव
    साया
    लक्ष्य

    हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
    अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
    अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

    ReplyDelete
  5. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
    हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

    ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।
    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी लगी आपकी ये आपबीती...सच में,रेल परिचालक का काम बहुत ही जिम्मेदारी भरा काम है...

    ReplyDelete
  7. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  8. हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete