Tuesday, August 30, 2011

तिरछी नजर


जादुई छड़ी को कुछ समय के लिए निलंबित कर , सोंचा कुछ चटपटी सी हो जाये ! हमेशा अवसाद , संस्मरण और विवादों से दूर ...कुछ हंसी - मजाक भी होने चाहिए ! अन्यथा मन उबाऊ हो जाता है ! चलिए इस कड़ी में एक नजराना पेश है --तिरछी नजर - कमाल कर गयी !



सुबह का समय , मुम्बई का आर्थर जेल ! जेलर साहब अपने वर्दी में डंडे भांजते हुए , जेल के कैदियों के मुआयने करने निकले ! कसाव को देखते हुए - उसके कमरे से आगे बढे ! उन्हें देख कसाब जोर से हंसा ! जेलर के पाँव रुक गए ! पूछे ? अबे इतना क्यों हँसता है ? 

 कसाव हंसते हुए कहा - " इस लिए की इण्डिया दुनिया का सबसे सुरक्षित जगह है ! अब तक तो पाकिस्तान  में मर गया होता ! हमारे यहाँ अब तक अपने ही  मार डालते थे ! "  जेलर  गुस्से से तिल- मिलाया ! बोला -  " तू मेरा वी.आई .पी.है ! अपने से आया है - हमारे इजाजत  से जायेगा ! बकरीद आने दे ! " फिर पैर पटकते हुए - जेलर   डंडे को कांख में दबाये आगे बढ़ गया , शोले के आसरानी जैसा  !

.......हां ...हां ..हा..हां ..हां

21 comments:

  1. बहुत मजेदार और रोचक ,साथ ही धारदार व्यंग्य.....

    ReplyDelete
  2. कोई बेचारा क्या करे, जीना और जिलाना हमारी थाती है।

    ReplyDelete
  3. आपका ये अंदाज़ भी अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  4. Bahut rochk !
    Badle -badale mere sarkaar najar aate haen !bahut dino baad aane se ?par achcha laga...

    ReplyDelete
  5. बहुत मजेदार और सुंदर प्रस्तुति,


    एक चीज और, मुझे कुछ धर्मिक किताबें यूनीकोड में चाहिये, क्या कोई वेबसाइट आप बता पायेंगें,
    आभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. lol
    enjoyed it
    nice pic

    ReplyDelete
  7. ज़रा देखिये कितने बड़े दिलवाले हैं हम.... :)----------- :(

    ReplyDelete
  8. यह सब वेदिक संस्कृति के पाटन का नतीजा है। वेदों मे स्पष्ट लिखा है यदि कोई आततायी को आते हुये देखे तो तत्काल उसका वध कर देना चाहिए ,इस प्रकार मारने वाले को हत्या का पाप नहीं लगता है। जब आप वेदों को ठुकरा कर विदेशियों द्वारा लिखवाये पुराण मानेंगे तो यही होगा जो आप देख-लिख रहे हैं।

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब शाहजी !स्साला कसाब हिन्दुस्तान का स्साला ,सारी दुनिया एक तरफ जोरू का भाई एक तरफ ,जय काग भगोड़ा ,बिजूका ,उर्फ़ "मम्मी जी "का लाडली - मोहन.

    नाट्य रूपांतरण किया है किरण बेदी ने .;

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रस्तुति |

    happy birth-day BALA Jee.

    ReplyDelete
  11. उम्दा प्रस्तुती!

    ईद मुबारक आप एवं आपके परिवार को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ.एक ब्लॉग सबका

    ईद पर विशेष अनमोल वचन

    ReplyDelete
  12. जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मना ले ईद.
    ईद मुबारक

    ReplyDelete
  13. हँसी रुक ही नहीं रही है.

    हा..हा...हा..हा...हा..हा..हा...हा...

    आपका यह रूप भी निराला है,जी.

    ReplyDelete
  14. bahut sahi baat kahi .hasi to aai pr sochne pr bhi majbur ho gaye.
    rachana

    ReplyDelete
  15. वाह ! वाह ....
    चित्र गज़ब का लगाया भाई

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया, मज़ेदार और ज़बरदस्त व्यंग्य! उम्दा प्रस्तुती !
    आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  17. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. मजाक ही सही ... पर आप सत्य कह गए हैं ...
    मजा आ गया पढ़ के ...

    ReplyDelete
  19. aapke blog per pehli baar aye acch alaga........

    ReplyDelete