Saturday, April 28, 2012

थोड़ी सी वेवफाई... ..

थोड़ी सी वेवफाई... .. आज के छोटे विचार ....

सज्जन हमेशा  दूसरो को हँसाते है ! 
दुर्जन / दुष्ट हमेशा ही दूसरो को रुलाते है !
जब ......
सज्जन व्यक्ति मरता  है ,
सभी रोने लगते है !
जब ...
दुर्जन / दुष्ट मरता है , 
सभी हंसते है , चलो एक दुष्ट की तो कमी  हुई !
( सौजन्य =मुनिश्री महाराज )

                                 
                                                                                                   ध्यान से देंखे - तस्वीर के अन्दर 

13 comments:

  1. सज्जन खुशियाँ बांटते, दुर्जन कष्ट बढ़ाय ।

    दुर्जन मरके खुश करे, सज्जन जाय रूलाय ।।

    ReplyDelete
  2. वाह! बहुत अच्छी सीख मिली यहाँ आकर.
    ब्लॉग पर कम सक्रिय रहा,इसलिए देरी हुई आने में.
    क्षमा चाहता हूँ.

    तस्वीर का रहस्य बताईयेगा.

    ReplyDelete
  3. सज्जन के जाने में सबको बहुत दुख होता है।

    ReplyDelete
  4. यही होता है अक्सर ....

    ReplyDelete
  5. आप गाडी चला रहे हैं ..तस्वीर तो यही दिखा रही हैं .....बहुत अच्छी सीख ,,,

    ReplyDelete
  6. शोभा चर्चा-मंच की, बढ़ा रहे हैं आप |
    प्रस्तुति अपनी देखिये, करे संग आलाप ||

    मंगलवारीय चर्चामंच ||

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. सज्जन के बारे में सोच कर भी दुःख होता हैं,......

    प्रेरक प्रस्तुति...
    साधुवाद.

    ReplyDelete
  8. सच तो है पर आजकल सज्जन मिलते नहीं ...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर विचार

    ReplyDelete
  11. आपने बहुत बे‍हतर लिखा आभार

    ReplyDelete