Saturday, February 16, 2013

बिल्ली के गले में घंटी बांधे


Corruption easily could be removed.Bail the cat . It is necessary to change the model of currency above Rs.100/- and allow citizen to exchange old Note with New Note through Banks within one month.There by huge hiding currency in hide houses of big bulls will get fused. If the corrupted  are comes out with their huge black currency ,they would be catch by different laws of the land. Are Govt ready ? Provided a smile in your's children future.

घुश्खोरी आसानी से मिट सकती है |बिल्ली के गले में घंटी बांधे  |१०० रुपये के ऊपर के सभी नोटों के प्रकार को बदल दें और नागरिको को  एक महीने के अन्दर पुराने नोटों को नए नोटों में  बैंक से बदल लेने  की सूचना दी जाए | इससे यह होगा की अथाह नोट के पुलिंदे , जो घुसखोरो के घरो में छिपे हुए है , बेकार हो जायेंगे | यदि घुसखोर अपने नोटों के साथ बाहर  आते है तो देश के  विभिन्न नियमो के अनुशार पकडे जायेंगे | क्या सरकार तैयार है ? अपने बच्चो के भविष्य पर चार चाँद लगाये |

12 comments:

  1. सरकारी अधिकारियों, नेताओं रंगदार |
    ठेकेदारों एक्टरों, उद्यमियों पर खार |
    उद्यमियों पर खार, मगर सरकार करे क्यूँ |
    कितने अरब हजार, घरों में भरे धरे यूँ |
    हो जाएँ बेकार, नहीं होगी हुशियारी |
    काला धन का जोर, मिले फिर पद सरकारी ||

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  3. कोई राह तो निकले..... आम आदमी के लिए बड़ी परेशानी है रिश्वतखोरी

    ReplyDelete
  4. अगर १०० मुश्किल लगता है तो पहले १००० से शुरुआत करें ... अधिकतर कला धन १००० के नोटों में ही पड़ा है ...

    ReplyDelete
  5. दम तो है बात में .बिचौलिए अर्थ शाष्त्री बीच में आ टपकेंगे

    ReplyDelete
  6. शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .आपका उपाय अपना लिया गया तो 32 रूपये पे गुज़ारे की सलाह देने वालों का क्या होगा जो गरीबी की रेखा को उठाए जा रहें हैं .....रेखा है ,महंगाई के नीचे दबी जाए है .

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया उपाय...

    ReplyDelete
  8. सुझाव अच्छा है पर इस राह में बहुत नहीं जाना चाहते..

    ReplyDelete
  9. Great suggestion but unfortunately our govt will not bell their own cats.

    ReplyDelete