Wednesday, February 23, 2011

क्या स्वप्न भी सच्चे होतें है ?...भाग-६ सासु जी को श्रधांजली

 अजीब सा लगता  है , जब कोई अनहोनी होने से टल जाती है ! मन को काफी शकुन  मिलता है या यूँ कहें .....
 दिल अन्दर ही अन्दर झूम उठता है..! वैसी ख़ुशी,.आनंद..भाव-विभोर ..कांति. वही समझ सकता है.जिसे जीवन  में ,ऐसी अनहोनी से सामना हुयी हो ! ऐसा मै इस लिए उधृत कर रहा हूँ  क्यों की इस तरह की अनुभूति मुझे तब हुयी , जब मैंने तारीख -१९-०२-२०११ ( गाड़ी संख्या -१२१६३ एक्सप्रेस  काम करते समय  )  को एक गायों के झुण्ड  तथा तारीख -२२-०२-२०११ ( गाड़ी संख्या -१२१६४ एक्सप्रेस काम करते समय ) को भैंसों के झुण्ड को ,सुरक्षित बचा लिया ! कहते है ...सबकी रक्षा  भगवान समय पर करते ही है ! उपरोक्त समय मुझे  आपातकालीन ब्रेक  लगाना पड़ा ! भगवान हम-सभी की भी रक्षा करें !
                                        अब आयें भूतकाल की घटना का जिक्र करे ,जो उपरोक्त शीर्षक से संबधित है ! मै 
 गाड़ी संख्या -१२६२७ सुपर फास्ट , जो बंगलुरु से चलकर नयी दिल्ली को जाती है ...को लेकर शोलापुर गया था  और  तारीख ०४-०९-२०१० को फिर वापस ..गाड़ी  संख्या -१२६२८ सुपर फास्ट ,जो नयी दिल्ली से चलकर बंगलुरु को जाती है  , को लेकर  आना था ! इस गाड़ी को काम करने के लिए ..साढ़े ग्यारह बजे रात को ड्यूटी में हाजिर होना होता है ! अतः मै जल्दी से खा-पीकर आठ बजे के करीब सो गया क्योकि इसके बाद रातभर जागना पड़ता है ! लम्बी गाड़ी..उस पर २४  /  २५ डिब्बे ! कष्टमय यात्रा  ! ड्यूटी तो निभानी ही है !
                      रात करीब ग्यारह बजे , कॉल बॉय ..मुझे जगाया. और कहा - " सर गाड़ी राईट टाइम चल रही है " मै उठ बैठ ! कहा - " ठीक है " ! पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद ..कॉल बॉय चला गया !मै पूरी तरह  से  तैयार  होकर चालक-परिचालक रेस्ट रूम के डायनिंग हॉल में आकर बैठ गया ! तब - तक मेरा सहायक  के .मुरली कृष्णा  भी आ बैठा ! बेअरेर आया और सामने खड़ा हो गया ,इस इंतजार में की हम कुछ अनुमति दें ! किन्तु अचानक वह पूछ बैठ -" सर बहुत उदास  नजर आ रहे है  "
  " हाँ ..मै भी ऐसा  देख रहा हूँ.. ! " मुरली कृष्णा   ने हामी भरी ! "
 (  चित्र में -सफ़ेद कुरते वाला ही बेअरेर है !
  जैकेट वाला -कुक ! ) मैंने दोनों केबातो 
 को गौर किया और कहा - " तुम लोग    ठीक ही कह रहे हो ! " कुछ समय रुक कर मैंने अपनी बात आगे बढाई और 
 कहा की - " मै एक बहुत ही दर्द-नाक 
 स्वप्न देखा ! " तब-तक बेअरेर चाय ले 
 कर हाजिर हो गया था. ! मैंने चाय की घूंट लेते -लेते अपनी बात जारी रखी !
  दोनों बहुत ध्यान से सुनने लगे ! 
 " मैंने देखा की मेरी माँ मर गयी है और 
  मै   खूब  जोर - जोर से रो रहा हूँ . मेरे 
  पास बैठे ,बालाजी ( मेरा छोटे पुत्र  ) मेरे गोद में सिमटते जा रहे है ! तभी कॉल बॉय मुझे जगाया था ! तब से 
  ही समझ में नहीं आ रहा है की क्या होने वाला है !" कुछ क्षण चुप रहने के बाद  फिर कहा - " मैंने अपने माँ के बारे में ऐसी स्वप्न देखी है अतः  इसके उलटा ही होगा ! भगवान जाने क्या होने वाला है "
                       इसके बाद सभी ने हामी भरी और हम अपने आन को डालने लोब्बी में चले गए ! नियत समय से आधे घंटे लेट गाड़ी आई ! हमने अपनी जरनी शुरू की !हम रात -भर गाड़ी चलाने के बाद ,अब गुंतकल के नजदीक आ रहे थे ,तभी मेरे सहायक के मोबाइल पर कॉल आया ! समय पौने सात ! उसने फ़ोन रिसीव किया !
 बात पूरी करने के बाद -मुरली कृष्णा ने कहा - " सर ..आप ने ठीक ही स्वप्न की बात कही ! अभी मेरे ससुर जी का फोन आया था ! कह रहे थे की मेरी बेटी को लेकर जल्दी आ जाओ ,तुम्हारी सास जी की हालत बेहद नाजुक है ! मेरे बेटी को मत बताना , नहीं तो घबरा जाएगी !''
                   मुरली कृष्णा  गाड़ी से उतरते ही , जल्दी गाड़ी  संख्या -११०२८ मेल से आदोनी के लिए रवाना हो ! गया ! बाद में मैंने फोन कर उसके सास  की हालत के बारे में जान- कारी ली ! पता चला की वे बहुत नाजुक हालत में है !आखिर कार एक सप्ताह के बाद उनका देहावसान हो गया ! भगवान उनकी आत्मा को शांति दें !

  

6 comments:

  1. कहा जाता है की मन कई बार मन भावी घटनाओं को भांप लेता है..... यह स्वप्न भी हो सकते हैं....
    जो शायद सच भी हो जाता है.....

    ReplyDelete
  2. कई बार ऐसा लगता है कि पुर्वाभास होता है।
    संस्मरण काफी रोचक व रोंगटे खड़े कर देने वाला है।

    ReplyDelete
  3. जी हाँ कभी-कभी किसी को पूर्वाभास जो होता है वह सच निकल जाता है.

    ReplyDelete
  4. jiska man jitna suksham hota hai use jyada aur sahi purvabhas hota hai .. han

    ReplyDelete
  5. श्रद्धांजलि। इन घटनाओं का आभास हमें पहले से ही हो जाता है।

    ReplyDelete